गंभीर अड्डा

 
  • कैसे हुआ सेसे का आविष्कार ?

    चिन्नी कृष्णनन का नाम शायद बहुत कम लोगों ने सुना होगा, क्योंकि जनरल नॉलेज की कितबों में भी उनका जिक्र नहीं होता। मगर उनके द्वारा ईजाद की गई एक चीज को ...
    जून 18, 2021 कमल पंत
  • पिथौरागढ़ का इतिहास 2

    आज जब नयी पीढ़ी अपनी बोली भाषा तीज पर्व तिथि त्योहार पंचांग त्याग रही हैं, अपने लोग बुर्जुआ रुढिवादी लगने लगे हैं, सोचा चलो कुछ स्वयं से मनोविनोद किया ...
    मई 26, 2020 ओये बांगड़ू
  • पिथौरागढ़ में नवीं सदी के मध्य कासनी का विष्णु मंदिर

    पिथौरागढ़ जिले से 3 किमी की दूरी पर कासनी गांव के बीच, जिले का सबसे बड़ा दस अवतार विष्णु का भव्य मंदिर समूह है मुख्य मन्दिर के गर्भ ग्रह में भगवान विष...
    मई 25, 2020 ओये बांगड़ू
  • लाकडाउन सफलता है या असफलता ?

    भारत दुनिया का पहला ऐसा देश है जहां लाकडाउन के बाद कोरोना फैला है। क्योंकि यहां के प्रशासन ने बिना तैयारी के उन देशों की नकल करते हुए लाकडाउन लगा दिया...
    मई 24, 2020 ओये बांगड़ू
  • पिथौरागढ़ का इतिहास

    पिथौरागढ़… आज जो नाम प्रचलन में है मेरे खयाल से रोमन लिपि के प्रभाव से चलन में आया होगा जो पिठौरगढ पिठौरागढ से पिथौरागढ़ हो गया अंग्रेजी में ठ...
    मई 17, 2020 ओये बांगड़ू
  • आंबेडकर : संविधान निर्माता के अलावा अर्थशास्त्री भी

    ‘आंबेडकर अर्थशास्त्र के क्षेत्र में मेरे जनक हैं.’ 2007 में यह बात नोबल पुरस्कार विजेता अमृत्यसेन ने कही थी. मानसिक कोढ़ से भरा हमा...
    अप्रैल 14, 2020 Girish Lohni
  • हिजड़ों की मस्जिद -दिल्ली की कमदेखी जगह

    दिल्ली के महरौली के गेट पर आपको लिखा मिलेगा ‘एतिहासिक शहर महरौली में आपका हार्दिक स्वागत है’.देखकर सोच में पड़ जायेंगे आप कि महरौली...
    फरवरी 10, 2020 कमल पंत
  • चेहरे ने बदल दी पहचान

      “उसने मेरा चेहरा बदला है दिल नहीं, उसने मेरे चेहरे पर एसिड डाला है मेरे सपनों पर नहीं” – लक्ष्मी अग्रवाल चेह...
    अप्रैल 9, 2019 ओये बांगड़ू
  • क्यों चुनावी वर्ष में बढ़ जाती हैं आतंकी घटनाएँ

    लगभग अनुमान के आधार पर,गूगल सर्च करके थोड़ा सा डाटा बनाया है,मोरारजी देसाई की सरकार जाने वाली थी और चुनाव होंगे एसा अनुमान था तब, 1980 के दशक के दौरान ...
    फरवरी 15, 2019 कमल पंत
  • गांधी चाहिए या गोडसे ?

    तीस जनवरी को आप किस तरह याद करते हैं,गांधी के वध का दिन या एक अहिंसा के समर्थक की दुखद हत्या का दिन,सोशल मीडिया गांधी के बारे में क्या क्या कहने लगा ह...
    जनवरी 30, 2019 ओये बांगड़ू
  • संस्मरण-गाँव के बहाने पलायन का दर्द

    गाँव,जो अपने आप मे हमारे देश की संस्कृति को सहेजने और संरक्षित रखने के सच्चे वाहक हैं .उनके बारे मे लिखना बिलकुल वैसा ही है जैसे किसी का शरीर देखकर उस...
    जनवरी 21, 2019 ओये बांगड़ू
  • चुनाव से पहले नया शब्द वापस आ गया ‘राजद्रोह’

    9 जनवरी 2016 को जवाहर लाल नेहरू विश्वविधालय अचानक से चर्चा में आ गया,कारण ये बताया गया कि वहां कुछ छात्रों ने हिन्दुस्तान मुर्दाबाद के नारे लगाए.मामला...
    जनवरी 19, 2019 कमल पंत
  • हमे एमपी चुनना है पीएम नही

    अगला प्रधानमंत्री कौन? मोदी नही तो कौन बताइये आप? ये प्रधानमंत्री कौन वाला जो सवाल है वह पिछले पचास सालों से पूछा जा रहा सबसे बेवकूफाना सवाल है। आपको ...
    जनवरी 18, 2019 ओये बांगड़ू
  • बदलते अखबार

    आजादी से पहले अखबारों में राजनैतिक खबरों का जोर ज्यादातर दो तरह से रहता था,पहला ख़बरों को सूचनात्मक तरीके से पेश किया जाता था,दूसरा आजादी और उससे जुडी ...
    जनवरी 17, 2019 ओये बांगड़ू
  • जरुरतमंद की मदद करने से बड़ा कुछ नहीं: संजय गुप्ता

    समाज में अक्सर हम नेताओ के किये हुए कामों को उनके द्वारा ही लगाएं बोर्ड पढ़कर पहचानते हैं,मगर हमारे इलाके के आस पास बहुत सारे लोग एसे भी हैं जो अपना का...
    जनवरी 16, 2019 ओये बांगड़ू
  • राफेल डील क्या है, क्यों बन गया बड़ा चुनावी मुद्दा ?

    राफेल सबसे बड़ा मुद्दा बनेगा शायद इस चुनाव में,बहुत सारा पैसा तो है ही है इन्वाल्व साथ में कांग्रेस भाजपा दोनों के पास इस मुद्दे पर बोलने के लिए बहुत स...
    जनवरी 4, 2019 ओये बांगड़ू
  • सावित्रीबाई फुले: देश की पहली महिला टीचर, विद्रोही लेखिका

    सावित्री बाई फुले की आज जयंती है, भारत की वह नारी जिसने अछूतों के लिए, दलितों के लिये 170 साल पहले संघर्ष करना शुरू कर दिया था,पहली शिक्षिका कह लीजिए ...
    जनवरी 3, 2019 ओये बांगड़ू
  • Audio : उतराखंड में लड़की को जिन्दा जलाया गया,क्या मिलेगा न्याय ?

    ऑडियो सुनने के लिए यहाँ क्लिक करे – http://www.oyebangdu.com/wp-content/uploads/2018/12/AUD-20181223-WA0008-online-audio-converter.com_.mp3...
    दिसंबर 24, 2018 ओये बांगड़ू
  • कानून का ध्वंस था बाबरी

    बाबरी एक् काले अध्याय के रूप में हमेशा याद की जाती रहेगी,ये एक् पुराने स्ट्रक्चर का ध्वंस नही था बल्कि कानून व्यवस्था का ध्वंस था। मुख्यमंत्री कल्याण ...
    दिसंबर 6, 2018 ओये बांगड़ू
  • फर्जी खबरों का मकडजाल और पत्रकारिता भाग 5

    ख़बरों का क्या असर पड़ता है हम मीडिया से जुड़े लोग भी कई बार असली और फर्जी खबर पहचानने में धोखा खा जाते हैं तो सोचिये उस आदमी का क्या होता होगा जो दिन भ...
    दिसंबर 5, 2018 कमल पंत
  • फर्जी खबरों का मकडजाल और पत्रकारिता भाग 4

    वैसे तो रोज ही फर्जी ख़बरें अपनी जगह बना लेती हैं लेकिन 26 जनवरी के मद्देनजर कुछ फर्जी ख़बरें बहुत जरूरी हो जाती हैं जिन्हें जानना बेहद जरूरी है. क्योंक...
    दिसंबर 1, 2018 कमल पंत
  • करतारपुर कॉरिडोर, वोटबैंक का कॉरिडोर

    धर्म के मामले में उंगली करने पर वोटबैंक में भयंकर रूप से हानि होती है, ये एक शुद्ध राजनीतिक कोट है। मल्लब ये समझ लो कि कोई अगर धर्म की बात कर रहा है य...
    नवंबर 30, 2018 ओये बांगड़ू
  • फर्जी खबरों का मकडजाल और पत्रकारिता भाग 3

    अभी कुछ दिन पहले एक सरफिरे ने एक मुस्लिम व्यक्ति को मार डाला,और उसका वीडियो बनाकर बकायदा सोशल मीडिया में अपलोड भी किया,वो जैसे ही वाईरल होने लगा,संस्थ...
    नवंबर 28, 2018 कमल पंत
  • बेरोजगारी का आलम प्रादेशिक सेना तक मे हजारों की भीड़

    प्रादेशिक सेना अर्थात टेरिटोरियल आर्मी, है क्या यह? असल मे उत्तराखण्ड के अखबारों में आजकल टेरियोरियल आर्मी की भर्ती की खबरें बड़े जोर शोर से छप रही हैं...
    नवंबर 28, 2018 ओये बांगड़ू
  • मंगल ग्रह पर उतरा नासा का इंसाइट लैंडर, क्या जल्द होगी इंसानों की लैंडिंग ?

    भारतीय समयनुसार मंगलवार की रात मंगल ग्रह के अरबों साल पुराने राज़ खोलने के लिए, अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा का अंतरिक्ष यान इंसाइट लैंडर मंगल ग्रह पर ...
    नवंबर 27, 2018 ओये बांगड़ू
  • फर्जी खबरों का मकडजाल और पत्रकारिता भाग 2

    एक उदाहरण के रूप में 2016 का एक केस बहुत लोकप्रिय है. जब एक वेबसाईट ने 2000 के नोट के अंदर चिप और ट्रेकिंग डिवाईस होने की बात अपनी साईट में पब्लिश कर ...
    नवंबर 24, 2018 कमल पंत
  • फर्जी खबरों का मकडजाल और पत्रकारिता

    फर्जी खबरों की डिजिटल में एक अलग वेल्यू हो गयी है ये बहुत तरीके से काम आती है,न्यूज वेबसाईट्स जहाँ अपने बिजनेस (व्यूवर्स) को बढाने के लिए इसकी मदद लेत...
    नवंबर 21, 2018 कमल पंत
  • इस जमाने की हकीकत

    मेरे एक परिचित बुजुर्ग हैं जिनका हाल ही में अचानक निधन हो गया। उनके निधन का समाचार बड़ा दु;खी कर देने वाला था।जब वह जीवित थे तो अक्सर मुझसे कहते थे कि...
    नवंबर 8, 2018 ओये बांगड़ू
  • बाघिन अवनि को मारने के पीछे एक एंगल यह भी

    महाराष्ट्र के यवतमाल जिले में एक सो कॉल्ड नरभक्षी बाघिन अवनी को मार डाला गया। उसके पीछे दो बच्चे अब बच गए हैं। अवनी के चर्चा में आने का कारण रहा उसके ...
    नवंबर 6, 2018 ओये बांगड़ू
  • सबरीमाला मंदिर : कड़ी पुलिस तैनाती के बीच आज फिर खुलेगा अयप्पा मंदिर

    केरल के सबरीमाला मंदिर को आज भगवान अयप्पा की विशेष पूजा के लिए एक बार फिर खोला जायेगा. लेकिन मंदिर में महिलाओं का प्रवेश सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद...
    नवंबर 5, 2018 ओये बांगड़ू
  • सफेदी की चमक ‘नील’ विश्व को भारत की देन

    सफेदी को चमक देने का आविष्कार कही विदेश में नहीं बल्कि भारत में हुआ था. भारत ही वो देश है जिसने दुनियां को सफ़ेद कपड़ों पीला पड़ने से बचाने का फ़ॉर्मूला द...
    नवंबर 4, 2018 ओये बांगड़ू
  • इंदिरा गाँधी की पुण्यतिथि : 34 साल पहले देश ने ‘आयरन लेडी’ को खो दिया

    आज ही के दिन साल 1984 में देश की पहली महिला प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी की मौत की खबर ने देश को हिला दिया था. आज ‘आयरन लेडी’ कही जाने वाली इंदिरा गाँधी ...
    अक्टूबर 31, 2018 ओये बांगड़ू
  • सरकार क्या है?

    सांसद विधायक से मिलकर बनी सरकार ही क्या सरकार है? नही, सरकारी महकमे के हर विभाग का हर आदमी जो भारत सरकार की उस आमदनी से तनख्वाह पा रहा है जो उसे आम आद...
    अक्टूबर 29, 2018 ओये बांगड़ू
  • महाराष्ट्र में लागू मगर केरला में भागू क्यों ?

    अमित शाह ने केरला के सबरीमाला वाले मामले में सुप्रीम कोर्ट को कहा कि सर जी ,ऐसे फैसले दो जो लागू किये जा सकें। केरला में वैसे भाजपा की कोई खास पकड़ नही...
    अक्टूबर 28, 2018 ओये बांगड़ू
  • जनता जो पढ़ती है हम वो पढ़ाते हैं vs जो हम पढ़ायें जनता वो पढ़े

    पाठक जो पढ़ रहे हैं हम वह पढ़ा रहे हैं इस भावना के साथ अधिकतर अख़बार बस जनभावना को ध्यान में रखते हुए,करवाचौथ मनाने के दस तरीके,दिन भर में ये न करें,ये क...
    अक्टूबर 27, 2018 कमल पंत
  • राजस्थान में भूतों का सामना करने वाले परिवार की आपबीती !

    भारत विभिन्न परंपराओं और प्रथाओं वाला देश है. भारत का इतिहास भी बेहद पुराना है और उसी इतिहास में कई ऐसी जगहों का जिक्र है जहाँ लोगों ने पैरानॉर्मल ऐक्...
    अक्टूबर 26, 2018 ओये बांगड़ू
  • पाब्लो-जिसकी रियल लाईफ को बालीवुड ने भुनाया

    रईस का शाहरुख़ खान हो,डान का अमिताभ बच्चन या फिर किसी अन्य ड्रग माफिया वाली फिल्म का ड्रग डीलर बालीवुड ने अक्सर ‘पाब्लो एस्कोबार’ स...
    अक्टूबर 25, 2018 कमल पंत
  • ये खत कुछ कहते हैं

    हिमालय के दो विभन्न घरों के दो साधारण पुरुषों की दिनचर्यायों में तुलना की गयी है, पुराने ज़माने में और आज के समय में. अभिजीत कालाकोटी मीडिया के छात्र ह...
    अक्टूबर 22, 2018 ओये बांगड़ू
  • World Food Day- ग्लोबल हंगर इंडेक्स में लगातार पिछड़ता भारत

    भारत में आज़ादी के 7 दशकों बाद भी करोड़ों लोग ऐसे है जिन्हें दो वक़्त की रोटी भी नहीं मिल पाती. एक तरफ लोग खाने को कूड़े में फेंक देते है तो दूसरी तरफ कुछ...
    अक्टूबर 16, 2018 ओये बांगड़ू
  • बिहार से मजदूरों का पलायन बना ट्रेंड

    बिहार के सीवान जिले के राजीव कुमार भारती आजकल पत्रकारिता की पढाई कर रहे हैं और बिहार में ट्रेंड बनते जा रहे पलायन को लेकर चिंतित है. बाहर लात खायेंगे...
    अक्टूबर 12, 2018 ओये बांगड़ू
  • राज बदला तो समाज भी बदला

    सामजिक उथल पुथल एक सामन्य सी बात है,याद रहे मैं राजनितिक उथल के बाद होने वाले सामजिक बदलाव की बात कर रहा हूँ. ये इतना सामन्य है कि अब तक हमें आदत हो ज...
    अक्टूबर 6, 2018 ओये बांगड़ू
  • बहुरूपिया के अलग अलग रूप देखने का मौका

    भारत में एक समय था जब गली गली, गाँव गाँव अजब रूप धारण किए बहरूपिया  घुमा करते थे . कभी कोई रूप डराता था तो कभी हँसता था. अक्सर भगवान के अलग अलग रूप धा...
    अक्टूबर 4, 2018 ओये बांगड़ू
  • बापू के बाद भारत की असल तस्वीर

    महात्मा गांधी के जाने के सालों बाद भी भारत की तस्वीर वैसी नहीं बन पाई जैसी ‘बापू’ ने सोची थी.  वैसे देशवासी शुरू से ही समाजवाद को मानने से इनकार करते ...
    अक्टूबर 2, 2018 ओये बांगड़ू
  • इतना भोला समाज है

    कभी कभी असली बांगडू भी लिख देते हैं कुछ हमारे समाज के लोग बहुत भोले हैं, खासकर कथित उच्च वर्ग। व्हाट्सअप फेसबुक पर लगातार दलितों से जुड़े मेसेज आ रहे ह...
    सितंबर 22, 2018 ओये बांगड़ू
  • मोदी की गलती नही,मार्किट में झोल है

    आज भी आलोचना का ही मन है लेकिन उन टुच्चे सोशल मीडिया मार्केटिंग वालों की आलोचना जो सस्ते प्रचार के कारण कुछ भी लिख डाल देते हैं और बदनाम होते हैं पीए...
    अगस्त 21, 2018 कमल पंत