ओए न्यूज़

टेलीविझन,टेलीविजन और टीवी -टेलीविजन डे

नवंबर 21, 2018 ओये बांगड़ू

पप्पू ने गप्पू से शुद्ध हिंदी में कहा तेरे यहाँ दूरदर्शन हैं ? गप्पू बोला नहीं हमारे यहाँ केबल लगा है जी टीवी स्टार प्लस देखते हैं हम लोग दूरदर्शन नहीं देखते. दूरदर्शन शब्द अब बस सरकारी टीवी चैनल को कहा जाता है उसके अलावा दूरदर्शन मतलब कुछ और है ही नहीं,दूरदर्शन मने वो चैनल जिसे देखने वाले और कबड्डी का मैच देखने वाले एक बराबर हैं शहरों में (हाँ जहाँ केबल नही पहुंचा वहां वही एक चलता है). लेकिन आपको पता है हम सब दूरदर्शन देखते हैं.

जी दूरदर्शन मने टेलीविजन मने टीवी, शब्दों के हिन्दीकरण के काल में टेलीविजन को ये नाम मिला दूरदर्शन वर्ना टेलीविजन बनाने वाले ने बड़ा सोच समझ कर इसका नाम टेलीविजन रखा यूनानी टेली  का मतलब होता था दूर और लैटिन विजन का मतलब होता था द्रष्टि द्रष्टिकोण तो बस इस 1930 में आये डब्बे का नाम पड़ गया टेलीविजन.

वैसे इसे कहते थे टेलीवीझन लेकिन वही नाम बिगाड़ने की सदियों से चली आ रही प्रथा से ये भी अछूता ना रहा और इस बेचारे के झ को हटाकर ज कर दिया और बाद के दिनों में तो और भी हद कर दी, किसी कैनेडा गए पंजाबी की तरह इसके नाम का भी टेलीविजन से टीवी हो गया.

और टीवी आजकल एलईडी,स्क्रीन,वगेरह वगेरह नाम से पुकारा जा रहा है,अब कोइ न कहता टेलीविजन सेट अब एलईडी,होम थियेटर,स्क्रीन वगेरह नाम हो गए बेचारे टेलीविजन के. आविष्कारक भी सोचता होगा कहाँ योगी के देश में टेलीविजन भेज दिया,कमबख्त नाम ही बदल गया बेचारे का.

वैसे भारत में ये 15 सितम्बर 1949 को आया था प्रयोग के तौर पर,और तभी से सरकारी चैनल का नाम इसी के नाम पर पड़ गए दूरदर्शन जिसे आज कोइ नहीं देखता.ब्लेक एंड व्हाईट से कलर,कलर से थ्री डी और अब लगातार नए नए दौर से गुजरता टीवी आगे भी हमें मनोरंजित करता रहेगा. आगे भी हम टीवी देखने के माँ बाप से पिटते रहेंगे(हमने तो बचपन में इस डब्बे को देखने के कारण बहुत पिटाई खाई है). पाकिस्तान में क्रिकेट के बाद ये बेचारे टीवी टूटते रहेंगे और हर साल 21 नवम्बर को WorldTelivisionDay मना रहे होंगे. हम लोग..
हालांकि ये डे जो होते हैं ना हर दिन उस दिन हम करते क्या हैं हमें नही पता,जैसे बड्डे पर तो केक खाते हैं,पुण्यतिथि पर ब्राह्मण भोज होता है.मगर ये मेन्स डे ,टीवी डे वगेरह वगेरह   पर क्या करते हैं ????????

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *