metro

 
  • जोहान्सबर्ग से चिट्ठी -13

    किसी भी शहर के ट्रांसपोर्ट से शहर की अन्दूरनी व्यवस्था को आंका जाता है. कहते हैं पब्लिक ट्रांसपोर्ट की हालत ही शहर की असली हालत होती है. बनारस के विनय...
    नवंबर 3, 2016 ओये बांगड़ू
  • अनुशासित शोर वाला एक पार्क

    आजकल रापचिक रिंकी पार्कों की सैर कर रही है. दिल्ली में कभी पराठे वाली गली तो कभी रेहड़ी वाले मोमोस और कभी तिहाड़ का खाना चखने की जगह ज्यादा ही खा जाने व...
    अक्टूबर 27, 2016 ओये बांगड़ू
  • ऐसा किया तो मेट्रो में एंट्री ना मिलेगी

    हैप्पी दिवाली करते हुए मेट्रो में तनिक ध्यान से सफ़र कीजियेगा. कही ऐसा न हो कि मेट्रो में एंट्री करने से पहले ही आपको रोक दे. जी, माजरा कुछ ऐसा है दिवा...
    अक्टूबर 23, 2016 ओये बांगड़ू
  • मोबाइल के नाम पर बस फ्री WiFi दे दो रे बाबा

    दिल्ली वालो को दिली ख़ुशी मिलती है जब उन्हें मोबाइल के प्रभु wifi जी कही भी फ्री में मिल जाते है. इनके मोबाइल से जुड़ जाने के बाद ना खाना, ना पीना और ना...
    अक्टूबर 14, 2016 सुचित्रा दलाल