love

 
  • उर्स-ए-पिथौरागढ़ 7

    उर्स ए पिथौरागढ़ मोह्ब्ब्त की वह दास्तान है जो एक शहर मे धीरे धीरे घट रही थी ये कहानी मे अब तक क्या क्या हुआ ये अगर आपको जानना है तो इस लिंक पर क्लिक क...
    मार्च 27, 2018 Girish Lohni
  • हल्द्वानी के किस्से (परमौत की प्रेम कथा)14

    चाभी के नब्बू डीयर के पास रह जाने के दुर्योग के लिए हरुवा के भन्चकत्व को ज़िम्मेदार बताने के उपरान्त परमौत ने रात के काफ़ी हो जाने और नब्बू डीयर के घर ज...
    फरवरी 24, 2018 ओये बांगड़ू
  • उर्स-ए-पिथौरागढ़ 6

    इंटर की लौंडाई हवा अगले दिन पूरी सावधानी बरतते हुए प्रदीप ने अपने पहले ट्यूशन से दुसरे ट्यूशन की दौड़ कुमौड़ से रोडवेज को जाने वाली सीधी सड़क से तय की. ह...
    फरवरी 21, 2018 Girish Lohni
  • हल्द्वानी के किस्से (परमौत की प्रेम कथा)13

    हरुवा भन्चक के एक स्टेटमेंट ने हमें सन्नाटे में डाल दिया था. इतनी आसान भाषा में इसके पहले मानव इतिहास में आशिकों को शायद ही कभी वर्गीकृत किया गया होगा...
    फरवरी 9, 2018 ओये बांगड़ू
  • उर्स ए पिथौरागढ़ भाग 5

    हरकवा मासाप शाम के सात बजे घर पहुचते ही प्रदीप किताब की पौलोथीन पटकता हुआ बोला नी जाउंगा आज से में हरकवा मासाब के यहाँ इंग्लिश पढ़ने. पढ़ाता लिखाता है न...
    फरवरी 5, 2018 Girish Lohni
  • उर्स ए पिथौरागढ़ भाग 4

    बिन घन्टे का घन्टाकरण अगला दिन प्रदीप के लिए उतना ही सूखा रहा जितना की और कोई. एकबार महर्षि विद्या मंदिर के पीछे से निकलते हुए उसे शरीर में जरुर झुर-झ...
    जनवरी 31, 2018 Girish Lohni
  • हल्द्वानी के किस्से (परमौत की प्रेम कथा)12

    लाईट जाते ही नब्बू डीयर बोला – “लाईट चली गयी”. अँधेरे में आसपास से गुज़र रहे तीन-चार त्रिकालदर्शी महात्माओं ने भी कहा &am...
    दिसंबर 19, 2017 ओये बांगड़ू
  • हल्द्वानी के किस्से (परमौत की प्रेम कथा)-11

    एक होते थे हरुवा भन्चक. पहाड़ की शैली में कहा जाए तो इस कहानी में उनका प्रवेश करना अब मस्ट हो गया था. हरुवा भन्चक का असली नाम हरीश कुछ था लेकिन यह ख़िता...
    दिसंबर 15, 2017 ओये बांगड़ू
  • हल्द्वानी के किस्से (परमौत की प्रेम कथा)-10

    चाय-कम-चैंटू-सेंटर में लफंडर छोकरों द्वारा दी गयी अप्रत्याशित चुनौती से आहत और पराजित हुआ परमौत फैसला नहीं कर पा रहा था कि क्लास जाए या नहीं. प्रत्यक्...
    दिसंबर 14, 2017 ओये बांगड़ू
  • हल्द्वानी के किस्से (परमौत की प्रेम कथा)-9

    अपने सखा द्वारा ज़हर खाकर मर जाने की सीरियस धमकी दिए जाने के बाद पहली बार हमें परमौत के पोस्ट-कम्प्यूटर-क्लास मल्टी-मोहब्बतनामे के इस कालखंड के अपनी सा...
    अक्टूबर 3, 2017 ओये बांगड़ू
  • हल्द्वानी के किस्से (परमौत की प्रेम कथा)-8

    अपशकुनों से भरपूर उस इंट्रो-पाल्टी के अगले दिन क्लास में पिरिया नहीं आई. परमौत पूरे समय बेकरार रहा और अजीब-अजीब भय उसके मन में मंडराते रहे. उसके अगले ...
    अगस्त 28, 2017 ओये बांगड़ू
  • हल्द्वानी के किस्से (परमौत की प्रेम कथा)-7

    अशोक पांडे द्वारा रचित परमौत की प्रेम कथा एक शहर विशेष में घटित हो रहे प्रेम का संग्रह है.लड़कों के किशोरावस्था से युवा वस्था में आने तक की सम्पूर्ण दा...
    अगस्त 21, 2017 ओये बांगड़ू
  • हल्द्वानी के किस्से (परमौत की प्रेम कथा)-4

    अशोक पांडे द्वारा रचित परमौत की प्रेम कथा एक शहर विशेष में घटित हो रहे प्रेम का संग्रह है.लड़कों के किशोरावस्था से युवा वस्था में आने तक की सम्पूर्ण दा...
    अगस्त 3, 2017 ओये बांगड़ू
  • मार्च की खिचड़ी ख़बर

    देश बदल रहा है. लेकिन इतना बदल रहा है इसकी उम्मीद ना थी. पिछले महीने जब केंद्र सरकार की स्वास्थ्य संबंधी रिपोर्ट आयी तो उसमें कयी राज्यों में शिशु लिग...
    अप्रैल 10, 2017 Girish Lohni
  • IPL में सिर्फ क्रिकेट नहीं होता

    जौनपुरिया रमीज़ रज़ाअंसारी इह  I.P.L का मेला का पूरा चिट्ठा बता रहे हैं उहाँ का होता है का नहीं सब. कैसे विदेशी खिलाडियों का भी भारतीयकरण होगा और क्रिके...
    अप्रैल 8, 2017 ओये बांगड़ू
  • चोट इतनी

    आपणे ग़ज़ल हिंदी अर उर्दू में तो नरी पढ़ी होंगी लेकिन हरियाणवी ग़ज़ल की ओर ध्यान कम ही गया होगा और जब ग़ज़ल एक फौजी रह चुके लेखक नै ग़ज़ल लिखी हो ते वां और भी ...
    अप्रैल 3, 2017 ओये बांगड़ू
  • खुशामद – भारतेंदु हरिश्चंद्र

    एक नामुराद आशिक से किसी ने पूछा, ‘कहो जी, तुम्हारी माशूका तुम्हें क्यों नहीं मिली।’ बेचारा उदास होकर बोला, ‘यार कुछ न प...
    अप्रैल 1, 2017 ओये बांगड़ू
  • स्कूटी को जब प्यार हुआ

    रास्ते में पों पों -पी पि के संगीत के बीच जब स्कूटी के नैना एक बड़ी सी कार से लड़ते है पर फिर होती है विलयन की एंट्री तो पढ़िए क्या होता है. कमल पंत की ल...
    मार्च 11, 2017 ओये बांगड़ू
  • मेट्रो प्रेम कहानी

    दिल्ली मेट्रो में हर दिन लोग सिर्फ सफ़र नहीं करते बल्कि एक कहानी जीते हैं , उन में से कुछ की कहानी बन जाती हैं मेट्रो प्रेम कहानी. हुआ कुछ यूं कि शाम क...
    फरवरी 23, 2017 कमल पंत
  • छोटा सा गाम मेरा पुरा बिग बाजार था

    छोटा सा गाम मेरा पुरा बिग बाजार था एक नाई, एक खाती, एक लुहार था छोटे छोटे घर थे, हर आदमी बङा दिलदार था छोटा सा गाम मेरा पुरा बिग् बाजार था कितै भी रो...
    फरवरी 18, 2017 सुचित्रा दलाल
  • आख़िरी मंज़िल- मुंशी प्रेमचंद

    आह ? आज तीन साल गुजर गए, यही मकान है, यही बाग है, यही गंगा का किनारा, यही संगमरमर का हौज। यही मैं हूँ और यही दरोदीवार। मगर इन चीजों से दिल पर कोई असर ...
    फरवरी 17, 2017 ओये बांगड़ू
  • बहन का प्रेम हजम नहीं होता

    हर भाई बहन के बीच यह हालात कभी न कभी जरुर आते है और फिर भाई चाहे छोटा हो या बड़ा बहन के प्रेम की बात सुनते ही हाजमा दोनों का खराब हो जाता हैं. बहन के प...
    फरवरी 12, 2017 ओये बांगड़ू
  • आज से इश्क विश्क प्यार व्यार शुरू

    आज से प्यार का हफ्ता शुरू हो गया है. इस हफ्ते में प्यार रोज से शुरू और इस हफ्ते के बाद स्लैप डे के दिन एक जोरदार थप्पड़ के साथ खत्म भी हो सकता हैं. खैर...
    फरवरी 7, 2017 ओये बांगड़ू
  • ऐसा भी होता है

    जिला गाजियाबाद में रहने वाली डा.कुसुम जोशी का जन्म पिथौरागढ़ में हुआ जो जहाँ की खूबसूरती और सुनहरी यादें आज भी उनकी लेखनी में साफ़ नज़र आता है . आज उन्हो...
    जनवरी 4, 2017 ओये बांगड़ू
  • टॉयलेट एक प्रेम कथा

    टॉयलेट में अब तक लोग हलके होने का और पब्लिक टॉयलेट में कुछ लोग अराम फरमाने का काम तो जरुरु करते थे . लेकिन अब इश्क़ भी टॉयलेट में फ़रमाया जाने लगेगा. अब...
    दिसंबर 1, 2016 ओये बांगड़ू
  • ‘ढोला मारू’ राजस्थानी प्रेम कहानी

    राजस्थान  की रेत में कई प्यार के फूल खिले और हमेशा के लिए राजस्थान को अपने प्यार की खुश्बो से महका गये. यही वजह है कि राजस्थान की लोक कथाओंं  में बहुत...
    नवंबर 10, 2016 ओये बांगड़ू
  • इस्मत का अनोखा प्यार – लिहाफ

    महिलाओं पर बोल्ड अंदाज़ में लिखने वालो में  लेखिका इस्मत चुगताई का नाम हमेशा से ख़ास रहा है. इस्मत चुगताई ने कई चर्चित कहानियां लिखी और उन्ही में से एक ...
    अक्टूबर 10, 2016 ओये बांगड़ू
  • ‘गॉडेस् ऑव्ह लव ‘ की लव स्टोरी

    खोजबीन के उस्ताद चन्दन मनपंथी है. इनका दिमाग हमेशा दुनिया को खंगालने में लगा रहता है. यह कभी गुरु गूगल तो कभी किताबो की दुनिया में जा कर गजब बाते खोज ...
    अक्टूबर 9, 2016 सुचित्रा दलाल
  • रेहडी वाला प्यार

    हर गली मोहल्ले से हर पल हर लम्हा एक लव स्टोरी गुजरती है, हर लव स्टोरी की एंडिंग हो एसा जरूरी नहीं होता, जैसे कमल की बचपन से आज तक की लाखों लव स्टोरी म...
    अक्टूबर 4, 2016 कमल पंत