affection

  • पिता

    मेरी धमनियों में दौड़ता रक्त

    और तुम्ह...

    दिसंबर 4, 2018 ओये बांगड़ू
  • धुप्प दा टोटा- अमृता प्रीतम

    अपने आप विच आज़ादी दी एक कहानी जिही अमृता प्रीतम ने अपने लेखन विच अपने खयाला नु पूरी आज़ादी दिती. अते कई लोकां लई इक मिसाल बन गयी. उन्हां...

    फरवरी 19, 2017 ओये बांगड़ू