गंभीर अड्डा

सबरीमाला मंदिर : कड़ी पुलिस तैनाती के बीच आज फिर खुलेगा अयप्पा मंदिर

नवंबर 5, 2018 ओये बांगड़ू

केरल के सबरीमाला मंदिर को आज भगवान अयप्पा की विशेष पूजा के लिए एक बार फिर खोला जायेगा. लेकिन मंदिर में महिलाओं का प्रवेश सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद भी एक बड़ा सवाल ही बना हुआ है.ये ही वजह है कि सबरीमाला में 2 हजार से भी ज्यादा पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है. मंदिर को आज शाम 5 बजे से विशेष पूजा ‘श्री चितिरा अट्टा तिरूनाल’ के लिए खोला जा रहा है .

मंदिर में महिलाओं के प्रवेश का विरोध कर रहे हिन्दूवादी संगठनों ने महिला पत्रकारों को भी मंदिर से दूर रहने की चेतावनी दी है. इतनी पुलिस सुरक्षा और कोर्ट के आर्डर के बावजूद वीएचपी और हिंदू ऐक्यवेदी समेत दक्षिणपंथी संगठनों के संयुक्त मंच सबरीमाला कर्म समिति की महिलाओं के लिए जारी की गई यह चेतवानी बेहद गंभीर मुद्दा है.

पिछले महीने मंदिर को 17-22 अक्टूबर तक पांच दिन तक चलने वाली मासिक पूजा के लिए खोला गया था.लेकिन प्रतिबंधित आयु वर्ग की महिलाओं के मंदिर में प्रवेश के खिलाफ श्रद्धालुओं और अन्य संगठनों ने जमकर प्रदर्शन किया था जिसके दौरान पुलिस ने 536 मामले दर्ज किए हैं और 3,719 लोगों को गिरफ्तार किया है. इनमें से केवल करीब 100 लोग ही जेल में हैं, जबकि बाकियों को जमानत मिल गई.

गौरतलब है कि 28 सितंबर, 2018 को सुप्रीम कोर्ट ने ऐतिहासिक फैसला सुनाते हुए केरल के सबरीमाला मंदिर में महिलाओं को प्रवेश की अनुमति दे दी थी. कोर्ट ने साफ कर दिया था कि हर उम्र वर्ग की महिलाएं मंदिर में प्रवेश कर सकती है. सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुनाने के दौरान बेहद खास बात कही थी कि ‘हमारी संस्कृति में महिला का स्थान आदरणीय है. यहां महिलाओं को देवी की तरह पूजा जाता है और मंदिर में प्रवेश से रोका जा रहा है. यह स्वीकार्य नहीं है.’

लेकिन सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बावजूद मंदिर के ट्रस्ट त्रावणकोर देवासम बोर्ड और हिंदूवादी संघठनो का मानना है कि भगवान अयप्पा ब्रह्मचारी थे और इस वजह से मंदिर में वही बच्चियां व महिलाएं प्रवेश कर सकती हैं, जिनका मासिक धर्म शुरू न हुआ हो या फिर खत्म हो चुका हो.

महिलाएं भी भगवान अयप्पा की भक्त है और उन्हें भी अन्य भक्तों की तरह मंदिर में जाने का पूरा हक़ है.ऐ देश में अनेकों जगह देवी की तरह पूजी जाने वाली महिलाओं को मंदिर में एंट्री करने से रोका जाना कैसे जयाज हो सकता है ?

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *