ओए न्यूज़

दाज्यू कहिन-राम मन्दिर बने तो कुछ काम हो

नवंबर 22, 2018 ओये बांगड़ू

दाज्यू फिलहाल मुद्दों पर लिख रहे हैं और जबर लिख रहे हैं ये भी दाज्यू की कलम से ही है .

अब राम मंदिर बन जाये तो अच्छा कम से कम देश आगे बढे शिक्षा, स्वाथ्य, रोजगार, सड़क नागरिक सुरक्षा पर काम हो

आज क्लास मानिटर, ग्रामपधान से लेकर PM, राष्ट्रपति बीजेपी के हैं फिर कौन रोक रहा है ? ख़तम सिंह ’44 सीटों’ वाली कांग्रेस ? वो रोक रही है ? क्या मजाक है और देश में ऐसे भी मूर्ख हैं जिन्हें लगता है ये सही कह रहें हैं

धार्मिक पुस्तक रामायण में पढा था कि राम रावण में विवाद था राम मंदिर को न तो अल्लाह ने तोडा और बाबरी मस्जिद को भी भगवान् ने नहीं तोडा दोनों काम उपद्रवियों के हैं जो मानवता भाईचारे के दुश्मन रहे

अब बना दो मंदिर नास्तिको के लिए. जो आस्तिक है उन्हें पता है राम को मंदिर चाहिए होगा तो एक ‘तीर’ में मंदिर निर्माण कर देंगे वो ये उनकी शक्ति से उनको भगवान  मानते हैं .

बी.एड बेरोजगार बैठे  बिहार के ‘रामकिशन’ की माँ के आंशू ,बदहाल सरकारी अस्पताल में बीमार पड़े लियाकत खान की अम्मी में आखो के आंशू, दर्द में क्या  कोई फर्क है ? व्यापार में घाटे हो रहे अग्रवाल या परगट सिंह के दर्द में क्या कोई फर्क है ? फिर धार्मिक विभेद क्यूँ ?   मॉडर्न बैंकट हाल में हो रही किसी  सॉफ्टवेर प्रोफेशनल की शादी के सपने हैं ये  कि बड़ा होकर उसका बच्चा एक ऐसे समाज में आगे बढे जहाँ भाईचारा न हो ? धार्मिक टेंशन हो …आवारा बेरोजगार  लड़के गलियों में जय श्री राम के नारे या अल्लाह हु अकबर के नारे लगाकर रोड जाम करें उसको  भयभीत करें ?  क्या ऐसा हो कि उनकी पीढी भय में जिए ? धार्मिक विद्वेष से समाज के डर कर जिए ?

मीडिया ये नेता देश को किस ओर ले जा रहे हैं…नवजवानों को भड़काया जा रहा है पुराने गढ़े मुर्दे उखाड़े जा रहे हैं अरे पुराने लोग बुरे थे इसलिए तो बेहतरी के लिए तुम्हे बहुमत से लाये  .उस जनता को भड़काने गुमराह बरगलाने मूर्ख बनाने के बजाय मौका मिला है उनकी सेवा करें इतिहास बनायें

कभी न कभी तो लोग जागेंगे और सच झूठ में फर्क समझेंगे और इतिहास लिखेंगे .प्रकृति में एक खूबसूरत बात है कि हर चीज को बैलेंस करती है यहाँ भी होगा .बस मौसम को करवट लेना होता है और बसन्त का आनंद वही ले सकता है जिसने लू के थपेड़े झेले हैं.सबसे जरुरी है जागते रहो

य एष सुप्तेषु जागर्ति (आशय कठोर उपनिषद में लिखा )

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *