यंगिस्तान

पापकार्न एक विचारोत्तेजक नाटक

जनवरी 23, 2018 ओये बांगड़ू
रविवार (21जनवरी) सायं बरेली के युवा रंगकर्मी रामप्रिय गंगवार द्वारा अभिनीत एकल नाटक ‘पॉपकॉर्न’ का मंचन होटल ला-कासल में किया गया। समाज में व्याप्त कई बुराइयों को परत-दर-परत सामने रखने वाले इस विचारोत्तेजक नाटक के लेखक जबलपुर निवासी प्रसिद्ध रंगकर्मी आशीष पाठक हैं।
क्रिएटिव उत्तराखंड संस्था द्वारा आयोजित इस नाट्य मंचन में अभिनेता रामप्रिय गंगवार ने अपने सशक्त अभिनय से दर्शकों की बहुत सराहना प्राप्त की। ‘पॉपकार्न’ नाटक एक पढ़े-लिखे युवक ‘रूपक’ की कहानी है, जो देशसेवा करने की खातिर सेना में भर्ती होने की खातिर शहर आता है। भर्ती की भगदड़ में घायल होकर असफल होता है और अपनी गुजर-बसर के लिए ट्रेन के डिब्बों में पॉपकॉर्न बेचना शुरू कर देता है। प्लेटफॉर्म में इस युवक रूपक की पहचान एक विक्षिप्त लड़की से होती है। इस विक्षिप्त लड़की का कुछ लोग शारीरिक उत्पीड़न करते हैं। नाटक में संवादों के माध्यम से भ्रष्टाचार, बेरोजगारी, छद्म राष्ट्रवाद और फर्जी बुद्धिजीवियों पर भी गहरा कटाक्ष किया गया है। इस नाटक में लगभग एक घण्टे तक अभिनेता रामप्रिय ने सभी दर्शकों को अपने असरदार अभिनय से बांधकर रखा और खूब तालियां बटोरी। ‘क्रिएटिव उत्तराखंड’ के सदस्य संदीप सिंह ने बताया कि भविष्य में भी नवोदित कलाकारों को बढ़ावा देने के लिए इस प्रकार के कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *