यंगिस्तान

बांगडूवाद – एक ही बार करो रे प्यार

अक्टूबर 12, 2016 कमल पंत

आज का बांगडूवाद ये है कि अगर आप कालेज में हो और सच्चे प्यार की तलाश कर रहे हो तो जो मिले लपक लो, बाबा चंकी महाराज आपको बाबा प्रेमानंद की कहानी सूना रहे हैं, इसे पढ़कर शायद आप समझ जाओ. जैसे मिडल फिंगर एक,नाक एक, कान एक, चेहरा एक माँ बाप एक वैसे ही कालेज भी आलमोस्ट एक ही होता है  इसलिए एक ही बार प्यार करने की सोचो

हिन्दी फिल्मों के नाईंटी के दौर की एक कहावत बड़ी मशहूर है कि “प्यार जिन्दगी में बस एक बार होता है” बाकायदा शाहरुख़ ने तो किसी फिल्म में कह डाला कि ‘हम जीते एक बार हैं, मरते एक बार हैं और प्यार भी बस एक ही बार करते हैं ‘.
दिल तो बहुत बार किया कि बालीवुड की धज्जियां उड़ा दूं इसके लिए मगर 2000 के बाद की फिल्मों ने प्यार की डेफिनेशन को थोड़ा अपडेट कर दिया इसलिए मै भी चुप हो गया . अरे इन एक बार प्यार वालों को जाकर कोइ समझाए कि जो बाकी बार होता है उसे क्या नाम दोगे. वो क्या बाबा जी का ठुल्लू है . ना ना ये मै नहीं कह रहा .
एक बाबा है ‘बाबा प्रेमानंद’ . बाजू में रहते है वो अमर अकबर एंथोनी टाईप का पता है उनका ‘रूप महल प्रेम गली खोली नंबर 420 …’ बस वही .कह रहे थे नुक्कड़ पर चाय की चुक्कड़ के साथ ‘ उनकी कही बातों  में कपिल का ठुल्लू लगाकर आपको बता दिया . बहुत ज्ञानी हैं  महाराज प्रेम के बारे में . लोग कहते हैं उन्हें हर उस लडकी से प्यार हो जाता है जो नजरों के सामने से गुजरती है . कई बार तो टी वी में बैठे बैठे ही प्यार कर बैठते है .पर मजाल की कभी अपनी फीलिंग जुबान पर आने दी हो . चंद्रमुखी चौटाला को वर्षो से प्यार करते है पर इजहार सिर्फ कभी कभी ही करते है .स्पेशली जब रम पी हो . पिछले दिनों उन्हें 125652  वी बार प्यार हुआ .मुझे बुलाया और कहने लगे ‘यार दिल जलता है जब वो किसी और से बात करती है .उसका हर अंदाज दिलो जान से पसंद है उसकी ड्रेसिंग सेन्स कमाल की है .’ उसके सर के बाल से लेकर पैरो के नाखून तक की गजब तारीफ़ कर दी उन्होंने .मुझे लगा कोइ आभासी चरित्र होगा .पर कमबख्त वो तो उनकी पड़ोसन  निकली .मैंने कहा  ‘बाबा आजतक क्या ये नजर के सामने से नही गुजरी ,कहने लगे ‘गुज़री तो कई बार ,लेकिन मैंने ध्यान नही दिया “घर की मुर्गी दाल बराबर ” आज जब इसे किसी और के साथ बाहों में बाहें डाले घुमते देखा तो जल गया , बस तभी एहसास हुआ कि प्यार हो गया इससे . मैंने समझाया ‘बाबा ये आपका कोइ पहला प्यार तो है नही जो परेशान हुए जा रहे हो .ये जायेगी कोइ और आयेगी  (वैसे आभासी दुनिया में उनकी बहुत महिलामित्र है लेकिन वास्तविक दुनिया में एक भी नही ) बेचारे रोने लगे कहते है .दोस्त मुझे इससे सच्चा वाला प्यार हुआ है . ‘मैंने कहा जाकर इजहार कर दो, कहते है “वो एक बार किया था इजहार और लम्बी लम्बी फेंक कर भी आया था ,जमकर पढ़ी थी ,उसके ताने आज भी कानो में गूंजते है ,बस इसीलिए अब हिम्मत नही है ,मुझे उनका हाल देखकर लगा मामला सीरियस है .इसलिए एक विशेषज्ञ  डाक्टर की तरह उन्हें आई सी यूं में भारती किया और उनकी दवा के लिए खुद चल पढ़ा . लडकी पहले जैसी भी हो पर अब सच में कमाल की खूबसूरत लग रही थी .उसने बातो ही बातो में इसका सारा श्रेय फलाना फलाना क्रीम पाउडर और ब्यूटी पार्लर को दिया .खैर जैसे ही बाबा के प्रेम की बात उसे बताई .उसने दवा का काम करने के बदले दारू की बोतल पकड़ा दी और कहने लगी उसके पीछे में तब थी जब वो अपनी 7896 वी गर्लफ्रेंड ढूंढ रहा था ,उससे कहना ठीक से दारू पी ले होश ठिकाने आ जायेंगे . अब मै बाबा की दवा तो नही कर पाया इसलिए दारू ठीक से कर रहा हूँ  और बाबा दारू के नशे में उसे ही याद किये जा रहे है . शायद बाबा का ये वाला असली प्यार था .ये कहानी इसलिए सुनाई क्योकि एसे बाबा बहुत से है आस पास .जो शुरुवात में एक्सपर्ट बन जाते है और बाद में अकेले

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *