यंगिस्तान

ये है लड़कियों की रामलीला

अक्टूबर 15, 2016 कमल पंत

दूर हिमालय की गोद में कुछ लड़कियों ने पुरुष प्रधान रामलीला पर कब्जा करके उसे महिला प्रधान बना दिया. पढिये कैसे

पहाड़ों में एक रामलीला हुई , आप लोग सोचोगे इसमें कौन सी बड़ी बात है सब जगह होती है .मगर ये रामलीला में अभिनय किया  सिर्फ लड़कियों ने.मने जमीनी महिला सशक्तिकरण. दिल्ली के फाईव स्टार में बैठकर होने वाला वोमेन एम्पावरमेंट नहीं .

ये रामलीला हुई उत्तराखंड के तीन देशों (नेपाल तिब्बत चीन ) से घिरे पिथोरागढ़ जिले में जहाँ अब तक सिर्फ आदमी, पुरुष, लड़के मने मेल जेंडर रामलीला करते थे , यहाँ सीता भी लड़का बनता था और शूर्पनखा भी लड़का ही बनता था . तो एसे सूदूरवर्ती जिले में पहली बार लडकियों ने रामलीला की और सभी लड़कों को आउट कर दिया. 14732412_982327235227530_8923952171752147890_n

रावण, विश्वामित्र, राम. लक्ष्मण, राक्षस जैसे सभी पुरुष रोल अदा किये लड़कियों ने. गंगोत्री गर्ब्याल गवर्मेंट गर्ल्स इंटर कालेज (पिथोरागढ़ में 4 जी अम्बानी से पहले ही लांच हो चूका था,  जी जी जी जी आई सी ) की इन लड़कियों ने टीचर रमा खर्कवाल के निर्देशन में ना सिर्फ ये रामलीला आयोजित की बल्कि नाटक के जरिये दिल्ली का टिकिट भी ले लिया .14642402_982327038560883_8771974699448419325_n

इस रामलीला को दिल्ली के कला महोत्सव 2016 में भी शामिल किया जाएगा . तो दिल्ली वाले अगर इस लड़कियों की रामलीला में लेडी हुनमान, लेडी रावण , लेडी राम , लेडी दशरथ देखना चाहते हैं तो कला महोत्सव 2016 जरूर जाइएगा .

14708330_982327105227543_7175371417714549621_n14591704_982326951894225_5387927225022470394_n

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *