ओए न्यूज़

क्या नाम बदलने से बदले हालात ?

नवंबर 10, 2018 ओये बांगड़ू

नाम बदलो कार्यक्रम चल रहा है, उपलब्धियों पर जब कभी भविष्य उनसे पूछेगा कि क्या दिया तो शायद वह कहेंगे कि नाम बदल दिए, और सबसे खास बात नाम बदलकर पाया क्या? कुछ नही, आम जनता आज भी उन जगहों को उसी नाम से बुलाएगी, बस सरकारी दस्तावेजों में नाम बदलने के ऊपर जो करोड़ों का खर्च आएगा उसका ठेका किसी छोटे मोटे ‘अपने आदमी’ को मिल जाएगा।

ये कोई बहुत छोटी सी बात नही है कि एक पूरे शहर का नाम बदल दिया जाये और दो तीन शहर और लिस्ट में रखे जाएं। नाम बदलने के बाद ये भ्रांति फैला दी जाए कि पुरा पुरातन काल मे वह शहर उसी नाम से जाना जाता था। इतिहास पढ़ने वाला हर आदमी जानता है कि पुरा पुरातन काल मे उस शहर का अस्तित्व ही नही था।

अब आप जबरन साबित करने के लिए ये कहने लगो कि नही रामायण में ये था, वो था उसके बाद इन्होंने बर्बाद किया फिर बाद में आबाद करने का ढोंग किया तो कहां से लाते हो ऐसा ज्ञान?

चलो आपकी नाम बदलने की कार्यवाही को हम सही मानते हैं, आपने बहुत अच्छा किया, मगर क्या आपने शहर के अंदर की चीजों पर भी कुछ सुधार किया, स्कूल,सड़कें,पानी,बिजली जैसी आधारभूत चीजें बदली कुछ?

आपने बहस कर दी, जिद पकड़ ली कि नाम बदलना है तो बदलना है। लेकिन क्या नाम बदलने से कोई हालात बदले कहीं।

एक को आप खांसने वाला ढोंगी मुख्यमंत्री कहते हो, उसने दिल्ली के स्कूलों में जबरदस्त परिवर्तन कर दिखाया है। आंखें वह परिवर्तन देख सकती हैं। मगर क्या आपने अपने नाम बदली क्षेत्र में ऐसा कुछ करवाया। जो आप दिखा सकें

आप आगे और योजनाएं बना रहे हैं नाम बदलने की। दिल्ली पहले पुरानी हुआ करती थी बस ऐसा मैंने सुना है। बाद के दिनों में आगे फैलती चली गयी। कुछ जगहों के नाम सरकार ने रखे कुछ के वहां मौजूद किसी न किसी फेमस पॉइंट की वजह से खुद ब खुद पड़ गए। अब आपके हाथ मे सत्ता दे दी जाए तो आप तो सबसे पहले नाम बदलोगे। क्योंकि आपकी फेवरेट हॉबी बन गयी है।

जनता कुछ नही कहती। जनता खामोश है, वो अभी बस देख रही है। एक झटके में झटका देगी, फिर देखिएगा आप कितना नुकसान कर गए अपना नाम बदलने से।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *