ओए न्यूज़

पतंगबाज़ी फेस्टिवल

जनवरी 14, 2017 सुचित्रा दलाल

मकर संक्रांति के दिन का स्पेशल वाला खाना-पीना और पतंग के संग एक ऊँची उड़ान का अपना ही मज़ा है. मकर संक्रांति के फन में और मस्ती ऐड करने के लिए दिल्ली टूरिज्म ने द्वारका सेक्टर 10 में ‘इंटरनेशनल काइट फेस्टिवल’ मस्त वाला आयोजन किया है. 14 जनवरी से 16 जनवरी तक चलने वाले पतंगबाज़ी के इस फेस्टिवल में देश विदेश से कई फेमस पतंगबाज़ हिस्सा लेने आये हैं.

 

दिल्ली में चल रहे इस पतंग फेस्टिवल में पतंग के साथ साथ चटपटी दिल्ली के चटकारे भी शामिल किये गये हैं. खाने के बाद जब मूड नाचने- गाने और शोपिंग का हो तो वो भी द्वारका के DDA ग्राउंड में की जा सकती हैं. पतंग का इतिहास और पतंग के बनने से लेकर उड़ने तक के सफ़र के बारे में बताने के लिए कई बड़े पतंगबाज़ यहाँ मौजूद रहेंगे.

 

वैसे माना जाता है कि पतंग का आविष्कार ईसा पूर्व तीसरी सदी में चीन में हुआ था। हालांकि अब आजादी के जश्न से लेकर और कई फेस्टिवल्स पर पतंग सांसे ज्यादा उडती भारत में नज़र आती है . दुनिया की पहली पतंग एक चीनी दार्शनिक मो दी ने ने बनाई थी। पतंग का इतिहास लगभग 2300 साल पुराना है. तो पतंग के बारे में और डिटेल में जानना हो या फिर वीकेंड को पतंगबाज़ी के साथ एन्जॉय करना हो तो पतंग फेस्टिवल में जरुर शिर्गत करें .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *