बांगड़ूनामा

इतने भले नहीं बन जाना: वीरेन डंगवाल

जनवरी 19, 2019 ओये बांगड़ू

इतने भले नहीं बन जाना साथी

जितने भले हुआ करते हैं सरकस के हाथी

गदहा बनने में लगा दी अपनी सारी कुव्वत सारी प्रतिभा

किसी से कुछ लिया नहीं न किसी को कुछ दिया

ऐसा भी जिया जीवन तो क्या जिया?

 

इतने दुर्गम मत बन जाना

सम्भव ही रह जाय न तुम तक कोई राह बनाना

अपने ऊंचे सन्नाटे में सर धुनते रह गए

लेकिन किंचित भी जीवन का मर्म नहीं जाना

 

इतने चालू मत हो जाना

सुन-सुन कर हरक़ते तुम्हारी पड़े हमें शरमाना

बग़ल दबी हो बोतल मुँह में जनता का अफसाना

ऐसे घाघ नहीं हो जाना

 

ऐसे कठमुल्ले मत बनना

बात नहीं हो मन की तो बस तन जाना

दुनिया देख चुके हो यारो

एक नज़र थोड़ा-सा अपने जीवन पर भी मारो

पोथी-पतरा-ज्ञान-कपट से बहुत बड़ा है मानव

कठमुल्लापन छोड़ो

उस पर भी तो तनिक विचारो

 

काफ़ी बुरा समय है साथी

गरज रहे हैं घन घमण्ड के नभ की फटती है छाती

अंधकार की सत्ता चिल-बिल चिल-बिल मानव-जीवन

जिस पर बिजली रह-रह अपना चाबुक चमकाती

संस्कृति के दर्पण में ये जो शक्लें हैं मुस्काती

इनकी असल समझना साथी

अपनी समझ बदलना साथी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *