बांगड़ूनामा

इन ढलानों पर वसंत आएगा – मंगलेश डबराल

फरवरी 10, 2019 ओये बांगड़ू

 

इन ढलानों पर वसंत आएगा

हमारी स्मृति में

ठंड से मरी हुई इच्छाओं को

फिर से जीवित करता

धीमे-धीमे धुँधुवाता खाली कोटरों में

घाटी की घास फैलती रहेगी रात को

ढलानों से मुसाफ़िर की तरह

गुज़रता रहेगा अँधकार

 

चारों ओर पत्थरों में दबा हुआ मुख

फिर से उभरेगा झाँकेगा कभी

किसी दरार से अचानक

पिघल जाएगा जैसे बीते साल की बर्फ़

शिखरों से टूटते आएँगे फूल

अंतहीन आलिंगनों के बीच एक आवाज़

छटपटाती रहेगी

चिड़िया की तरह लहूलुहान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *