बांगड़ूनामा

गाँव के रास्ते

जनवरी 16, 2019 Girish Lohni

गांव के कच्चे रास्तों पर
जवान जानवर भाग रहे हैं.
जिनके पीछे बूढ़े भागते हैं.

बूढ़ों के पसीने
और
जानवरों के दूध
से बना घी खाकर
दूर शहरों में
जवानों के बच्चे
जवान हो रहे हैं.

गांव के इन रास्तों को
मालूम है
कि जवान जानवरों के पीछे
भागने वाले ये कदम बूढ़े हैंं.
इसलिये उनके नुकीले पत्थर
या उखड़ गये हैंं
या खुरदुरे हो चुके हैं.

जानवरों को भी
एहसास है कि
उनके पीछे
भागने वाले ये कदम जर्जर हैं
इसलिये
वे धीरे-धीरे भाग रहे हैं

जवान जानते हैं
ये बूढ़ी हड्डियां
अभी कुछ और दिन
घिस सकती हैं
इसलिये
वे शहरों में मसगूल हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *