यंगिस्तान

चटोरों नै बनाया समोसा ‘जापानी’

अक्टूबर 16, 2016 सुचित्रा दलाल

दिल्ली के आदमी तै आदमी गली भी खाने ताई मशूहर है . खाने के शौकीन दिल्ली आला नै देख एक बार हरियाणा के मानस बोले कै भई दिल्ल्ली में तो जिसने देखो वो ही ढोल से पेट लिए घूम रा है . जित देखो वही खाने की दूकान पै इसी भीड़ लागी रह है जाणु कुछ फ्री मै बंटे है . यो चटोरे दिल्ली वाला का ही करिश्मा है कै उन नै दिल्ली मै बैठे-बैठे जापानी समोसे का आविष्कार कर दिया .

चांदनी चौक की चटपटी गलियों मै मिलन वाले जापानी समोसे नै बनान में भी 4 तै  5 घंटे लग जा है. 60 लेयर वाले जापानी समोसे ने खान का भी अपना अलग ही मजा है . समोसे के अंदर मसालेदार आलू और मटर भरी जा है। इस जापानी समोसे के साथ खान की खातिर चटनी नहीं बल्कि छोले और लौकी का अचार परोसा जा है। इस समोसे का इतिहास भी 66 साल पुराना है और इस नै खान वाला की लिस्ट भी उतनी ही लम्बी है .

समोसा

इस समोसे की कोए नक़ल ना करे इस ताई जापानी समोसे को पेटेंट भी कराया जा चुका है . तो दिल्ली के चटोरों और दिल्ली तै बाहर वालो जब भी यो 60 परत वाला समोसा खान का मन करे तै पहुँच जाना चांदनी चौक की चटोरी गलियाँ मै मनोहर के ढाबे पै मोती सिनेमा के सामने. वैसे जापानी समोसे नै पसंद करने वालों में प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू, इंदिरा गांधी, फिल्म एक्टर राजकपूर और ओमप्रकाश के नाम भी शामिल हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *