ओए न्यूज़

क्या गणतंत्र दिवस के साथ संविधान दिवस जरूरी है ?

नवंबर 26, 2018 ओये बांगड़ू

आज संविधान दिवस है, संविधान दिवस, अर्थात वह दिन जब संविधान बनकर तैयार हुआ। ऐसा विकिपीडिया कह रहा है। डाक्टर भीमराव अम्बेडकर के 125 वें जयंती वर्ष में 2015 में मोदी सरकार ने इस दिवस की घोषणा की। इस दिन सँविधान सभा ने डाक्टर राजेन्द्र प्रसाद को संविधान सौपा था।

कुछ समझ आ रहा आपके। नहीं न, चलो विस्तार पूर्वक समझाते हैं, तो हुआ यूं कि आजादी के बाद 26 जनवरी 1950 को संविधान अमल में लाया गया इसलिए 26 जनवरी को हमने गणतंत्र दिवस की घोषणा कर दी। अब देश मे दो तीन दिन ही महत्वपूर्ण हैं और ये तीनों आजादी के आस पास से जुड़े हुए हैं। जैसे 26 जनवरी, 15 अगस्त, 2 अक्टूबर को महात्मा गांधी का बड्डे।

खैर 2015 में संविधान दिवस मनाया गया, 125 वां जयंती वर्ष था डाक्टर अम्बेडकर का, 26 नवम्बर को उन्होंने संविधान राजेन्द्र प्रसाद को सौंपा था, इसलिए इसे एक त्योहार के रूप में मनाया जाए, ऐसा तत्कालिक सरकार ने माना। और संविधान दिवस घोषणा हुई . वैसे जानकारी के लिए बता दें कि भारतीय संविधान को दो साल, 11 महीने और 18 दिनों में तैयार किया गया था.  भारतीय संविधान में 448 अनुच्छेद और 12 अनुसूचियां हैं और ये 25 भागों में विभाजित है.

अब हमारे पास गणतंत्र दिवस तो है ही साथ मे संविधान दिवस भी है।

चलो एक दिन बना एक दिन लागू हुआ अब हो सकता है अगली सरकार कहे कि इस दिन बनना स्टार्ट हुआ तो इस दिन को भी कोई दिवस कहते हैं।

जो है सब बढ़िया

संविधान को 26 नवम्बर 1950 को लागू किया गया. मगर 26 जनवरी को कांग्रेस ने आजादी की घोषणा की थी इसलिए 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस घोषित किया गया। और इस बात से खफा संघ ने 2015 में अम्बेडकरवादियों और बौद्धों द्वारा मनाए जाने वाले संविधान दिवस को अम्बेडकर की 125 वीं जयंती के उपलक्ष्य में देशभर में मनाना शुरू कर दिया। उस समय कांग्रेस सत्ता में थी तो उसने अपने मन की करी। और आज नई सरकार है तो वह अपने मन का कर रही है। आम जनता का काम है जो सत्ता कहे उसे देशभक्ति के नाम पर मान लेना और वैसा ही करना जो सत्ता कह रही है।

क्या ये नही लगता कि हम कठपुतली हैं जैसा मर्जी वैसा करवा लो। अब क्या कहूँ। कल गणतंत्र आज संविधान, कल को संविधान से जुड़ा कोई और डे भी मनाया जा सकता है। तैयार हैं मेरा देश बदल रहा है, एक तरफ यूपी में नाम बदल रहै हैं और दूसरी तरफ दिन। जय हो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *