बांगड़ूनामा

किरन जीत गइल -रमेशचन्द्र झा

अक्टूबर 25, 2018 ओये बांगड़ू

बिहार के फुलवरिया गाँव में जन्में रमेशचन्द्र झा  भारतीय स्वाधीनता संग्राम में सक्रिय क्रांतिकारी रहिल . जो साहित्य के क्षेत्र में भी उल्लेखनीय भूमिका निभाईल. भोजपुरी के साथ रमेश जी हिन्दी के कवि, उपन्यासकार और पत्रकार भी रहिल । रमेशचन्द्र झा के लिखल में देशभक्ति और राष्ट्रीयता का स्वर के साथ आम लोगों की जिनगी का संघर्ष, उनके सपने और उनकी उम्मीदें साफ़ दिखल हके.

 

जिनगी के एक लहर बीत गइल

हार गइल घोर अंधकार, किरन जीत गइल।

बदल गइल रंग, आज रंग असमान के,

निखर गइल रूप, रूप साँझ के, बिहान के,

सिहर गइल तार, हर सितार का बितान के,

आग भइल चिनगी से, साध जुगल जिनगी के

बिखर गइल हर सपना, अधरन से गीत गइल। जिनगी….

 

बदल गइल परिभाषा आज शूल-फूल के,

रूप आसमान चढ़ल बाग का बबूल के,

परती ना पहिचाने धरती का धूल के,

आर-पार आँगन के, महक उठल चन्दन के,

आपन परतीत गइल, सपना बन मीत गइल। जिनगी….

 

निखर उठी रूप नया-माटी का दे हके,

भाग नया जाग उठी-खेत के सरेह के,

धरती पर समदरसी दिया जरी ने हके,

आपन बनके थाती, लहकी मुरझल बाती,

जोत नया जाग रहल, परस नया प्रीत गइल। जिनगी….

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *