यंगिस्तान

एवेंजर्स- एक अंतरराष्ट्रीय स्तर की मनरेगा स्कीम

मई 5, 2018 Girish Lohni

 

जो लोग नरेंद्र मोदी ने चार साल क्या किया सवाल कर रहे हैं उन्हें जाकर ऐवेंजरस इंफिनिटि वार(avengers infinity war) फिल्म देखनी चाहिए. भारत के प्रधानमंत्री की लगातार विदेश यात्राओं का नतीजा ही रहा है कि आज मनरेगा के अंतराष्ट्रीय प्रारुप के रुप में एवेंजरस इंफिनिटी वार फिल्म बना दी गयी है. इसप्रकार का राष्ट्रीय प्रयास इससे पहले भाइयों के भाई सल्लू भाई अपनी “जय हो” नामक फिल्म में कर चुके हैं.

बालीवुड की भाषा में अगर एवेंजरस की कहानी सुनाई जाये तो थानोस या थौंस या थेंस नाम का एक आदमी है (क्योंकि इस आदमी के नाम पर ही डाउट है इसलिये हम सभी की सुविधा के लिये इसे थैला कहेंगे. )तो जनाब थैला एक मस्त मौला आदमी है जिसके मां-बाप की हत्या कर दी गयी है और ह्त्यारे से लड़ने के लिये थैले को चाईये पावर और थैले को वो मिलेगी पृथ्वी पर. थैला पृथ्वी पर आके बौल्याट मचाता है जिसे रोकने का काम करती है सुपर हीरो-हीरोइनों की पूरी फौज.

थैला एक ऐसा विलन है जिससे आपको फिल्म के अंत तक प्यार हो जायेगा. सरकारी सुपर हीरो की फौज थैले का कुछ भी उखाड़ फेंकेने में पूरी तरह नाकाम है. आयरन मैन, थोर,हल्क,कैप्टन अमेरिका, स्पाइडर मैन, गमोरा, स्कारलेट विच, नेबुला आदि सारे के सारे सुपरहीरो-हिरोईन एक थैला नामक आदमी से पिटने एक ही पिक्चर में घुसे हैं.

साला इतने सारे आम आदमी मिलकर एक थैले को कूटे तो कोई भी थैला मर जाये फिर कूटा गया सुपर हीरो-हिरोईन के द्वारा. फिल्म इस संस्पेंस पर खत्म कर दी कि थैला मरा या नईं मरा. तो भाई एक दर्शक होने के नाते मेरा साफ कहना है पैले तो ये नाइंसाफि है,एक थैले को कूटने इतने सुपर हिरो नि भेजने थे दूसरा इतने सारे सुपर हीरो-हिरोइन भेजने के बाद भी वो थैला बचा है तो थू है तुम्हारी सुपर-हीरोगिरी पर. तुम साले पड़े रहो अपने-अपने खोपचोंं में.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *