यंगिस्तान

ऑडियो: छिपकली के नाना है …

दिसंबर 4, 2018 ओये बांगड़ू

ऑडियो सुनने और पुरानी यादें ताज़ा करने के लिए यहाँ क्लिक करे 

90 के दशक के सभी कार्टून प्रेमी बच्चे इस गाने को उस दौर में बड़ी शिद्दत के साथ गाया करते थे। आलू कचालू कितना सजा दूं। छिपकली के नाना हैं छिपकली के हैं ससुर।

दूरदर्शन देखने वाले सभी बच्चों के लिए ये गाना एक दौर में प्रातःकालीन प्रार्थना की तरह हुआ करता था। गुलजार का लिखा गया ये गाना दूरदर्शन में आने वाला कार्टून डायनोसोर के लिए लिखा गया था। बच्चों की सभी चलित कविताओं को पीछे छोड़ते हुए इसने एक नई कविता को जन्म दिया। इसके आने से पहले माँ बाप कहा करते थे। चलो बेटा ट्विंकल ट्विंकल सुनाओ। इसके आने के बाद कहने लगे बेटा डायनासोर सुनाओ.

बच्चे भी पूरे जोश में एकदम दूरदर्शन को कॉपी करते हुए मजे में गाते थे ये गीत

इसके कुछ अंश सुनिए हमारी ऑडियो में।

ऑडियो आपको कैसी लग रही है जरूर बताइएगा। आगे और इसमे क्या नया किया जा सकता है ये भी बताइएगा।

बाकी ओएबांगडू अब भी अपने खर्चे में है आप चाहें तो हमें चंदा दे सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *