यंगिस्तान

हैप्पी बर्थडे बिग- B, 76 तो महज आंकड़ा

अक्टूबर 11, 2018 ओये बांगड़ू

डॉन की उम्र का अंदाज़ा लगाना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन है. बॉलीवुड के सुपरस्टार का आज 76 वां बर्थडे है लेकिन उम्र का यह आंकड़ा महज आंकड़ा ही लगता हैं. आज भी अमिताभ बच्चन छोटे पर्दे से लेकर बड़का स्क्रीन तक अपना जादू बिखेर रहे है. अब भी जब वो घर के फेवरेट इडियट बॉक्स के जरिए देवियों और सज्जनों पुकारते है तो लोग फटाक से टीवी के सामने बैठ जाते है और ‘कौन बनेगा करोडपति’ में अमिताभ के हर अंदाज़ और कंटेस्टेंटस के साथ होती दिलचस्प बातों में पूरी दिलचस्पी लेते है.

बॉलीवुड में  शहंशाह, महानायक, सुपरस्टार, एंग्री यंगमैन जैसे ना जाने कितने ही नामों से जाने जाने वाले अमिताभ बच्चन वैसे इंजीनियर बनना चाहते थे और एयरफोर्स में जाना का ख्वाब देखते थे. जिस भारी-भरकम आवाज के लिए आज उन्हें पहचाना जाता है उसी के चलते उन्हें ऑल इंडिया रेडियो ने रिजेक्ट कर दिया था. लगातार 12 फिल्मों के फ्लॉप होने के बाद बिग B को पहली कामयाबी ‘जंजीर’ फिल्म से मिली थी. जिसके बाद से अमिताभ बच्चन के हिट होने का सिलसिला लगातार जारी है. अमिताभ बच्चन के कई ऐसे फेमस डॉयलॉग हैं जो आज भी लोगों को याद हैं, तो पढ़िए कुछ कभी न भूले जाने वाले बिग B के  डॉयलॉग

‘ना’ का मतलब ‘ना’ ही होता है, ‘ना’ सिर्फ एक शब्द न हीं बल्कि एक वाक्य होता है, ‘ना’ अपने आप में इतना मजबूत होता है कि इसे किसी भी व्याख्या, एक्सप्लेनेशन या तर्क-वितर्क की जरूरत नहीं होती ‘ना’ को जबरदस्ती ‘हां’ में नहीं बदला जा सकता: पिंक

पैसा क्या है सिर्फ एक नंबर: तीन पत्ती

आई कैन टॉक इंग्लिश, आई कैन वॉक इंग्लिश, आई कैन लाफ इंग्लिश बिकॉज इंग्लिश इज ए वेरी फनी लैंग्वेज. भैरों बिकम्स बैरो बिकॉज देयर माइंड्स आर वेरी नैरो: नमक हलाल

मूछ हो तो नत्थूलाल जैसी हो वरना ना हो: शराबी

मैं आज भी फेंके हुए पैसे नहीं उठाता: दीवार

डॉन को पकड़ना मुश्किल ही नहीं, नामुमकिन है: डॉन

जिंदगी का तंबू तीन बंबू पर खड़ा: शराबी

हम जहां खड़े होते हैं, लाइन वहीं से शुरू हो जाती है: कालिया

पूरा नाम विजय दीनानाथ चौहान, बाप का नाम दीनानाथ चौहान, मां का नाम सुभाषिनी चौहान, गांव मांडवा, उमर 36 साल: अग्निपथ

रिश्‍ते में तो हम तुम्‍हारे बाप होते हैं, मगर नाम है शहंशाह: शहंशाह

कभी कभी मेरे दिल में ख्याल आता है – कि जिंदगी तेरी जुल्फों की नर्म छांव में गुजारनी पड़ती तो शादाब हो भी सकती थी :कभी कभी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *