यंगिस्तान

आइन्बॉल नेशनल चैंपियनशिप: खेलोगे कूदोगे बनोगे स्टार

अक्टूबर 26, 2018 ओये बांगड़ू

देश में पहली आइन्बॉल फेडरेशन ऑफ इंडिया ABFI और योति फाउंडेशन के सौजन्य से पहली आइन्बॉल राष्ट्रीय प्रतियोगिता का आयोजन 24 ओकटुबर से 26 ओकटुबर 2018 तक उत्तराखंड की पवित्र नगरी हरिद्वार में किया जा रहा है. आइन्बॉल एक ऐसी गेम है जिसमें किसी तरह का आपसी कॉम्पीटिशन नहीं बल्कि रंगों का खेल होता. बच्चों की पढाई के साथ साथ खेलों के महत्व को बढावा देने के लिए इस प्रतियोगिता का आयोजन किया गया है.,जिसके पीछे कई सालों  की मेहनत है .

देशभर के 16 राज्यों की टीम,150 से ज्यादा खिलाडी इसमें भाग ले रही हैं और चुने हुए खिलाड़ी फाइनल कैम्प करने के बाद 25 नवम्बर से अफ्रीका में होने वाली अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता में भाग लेंगे. 7 वीं शताब्दी में गुरु शंकराचार्य जी के सानिध्य में बने सिरोमनि अखाड़े में इस प्रतियोगिता का आयोजन किया जा रहा है. देश भर की चुनिदा महिलाओं को “शक्ति” सम्मान से नवाजा जाएगा। देश के नौजवानों को शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक रूप से सक्षम करने के लिए उठाये गए इस कदम में टीम योति अहम भूमिका निभा रही है. योति फाउंडेशन संस्था जो अफ्रीका के खेल आइन्बॉल को पिछले 5 वर्ष से भारत में प्रमोट कर रही है.

आइन्बॉल इंडिया के प्रेजिडेंट प्रताप सिंह ने बताया कि आध्यात्मिक नगरी हरिद्वार से खेल के नेसनल की शुरुआत हुई है जोकि भारत को विश्व कप दिलाने के लिए काफी है. सेकेट्री वसीम ने श्री निर्मला अखाड़े के सभी संत महात्माओं का धन्यवाद किया जिन्होंने खिलाड़ियों को सभी सुविधायें मुहिया कराई। मास्टर कोच अलीम ने कहा कि 12 मैच खेलने के बाद क्रमशः बिहार, केरला, पंजाब, चंडीगढ, जम्मू कश्मीर, मध्यप्रदेश, झारखंड और असम  की टीम ने सुपर 8 में जगह बनाई और साथ ही हरियाणा, राजस्थान, दिल्ली और उत्तराखंड की टीम प्रतियोगिता से बाहर हो गई हैं. आइन्बॉल राष्ट्रीय प्रतियोगिता का मुख्य उद्देश्य देश की प्रतिभाशाली खिलाडियों को मौका देते हुए भारत का नाम अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर रोशन करना है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *